ऑनर किलिंग के लिए हिदू मैरिज एक्ट जिम्मेदार, इसमें सुधार की ज़रूरत : खाप

रोहतक। हरियाणा की खाप पंचायतों का कहना है कि हिदू विवाह अधिनियम सामाजिक ताने-बाने के विरुद्ध है। खाप पंचायतें इस अधिनियम को ही उत्तर भारत में हो रही ऑनर किलिग की घटनाओं के लिए जिम्मेदार ठहराती हैं। उनकी मांग है कि इस अधिनियम में बदलाव किया जाना चाहिए।

इसके लिए सभी खाप एकजुट हैं और 10 नवंबर को चंडीगढ़ में सरकार को ज्ञापन देंगीं। इस मुद्दे पर तीन जिलों की खाप पंचायतों की बैठक शनिवार को जाट भवन में सर्वखाप पंचायत संयोजक महेंद्र सिह नांदल की अध्यक्षता में हुई।

बैठक में खाप प्रवक्ता धर्मपाल हुड्डा ने कहा कि हमारी सभ्यता व संस्कृति में अपने गोत्र, गांव तथा सीमा से लगते गांवों में शादी करने की मनाही है, जबकि हिदू विवाह अधिनियम में समान गोत्र में विवाह का प्रावधान है। इससे हमारी सभ्यता व संस्कृति को तोड़ने की कोशिश की जा रही है। बैठक में खाप-84 प्रधान हरदीप अहलावत ने कहा कि हिदू मैरिज एक्ट बनाने वालों को उत्तर भारत की संस्कृति का ज्ञान ही नहीं था।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें