पढ़िए : ब्रेड खाने से क्यों हो सकता है कैंसर

Bread

ब्यूरो । ब्रेड खाने के आदी लोगों के लिए एक बड़ी खबर आई कि ज्यादातर ब्रैंडेड कंपनी के उत्पाद में कैंसर जनित केमिकल मिले हैं। CSE की इस रिपेार्ट के बाद सोशल मीडिया से लेकर हर घर में यही चर्चा चल रही है कि आखिर फिर खाएं क्या। चलिए हम आपको बताते हैं कि आप जो ब्रेड खाते हैं उसमें CSE ने कौन सा खतरनाक रसायन पाया और कैसे इसका इस्तेमाल किया जाना चाहिए और किन देशों में इस रसायन के इस्तेमाल पर प्रतिबंध है।

पोटैशियम ब्रोमाइड (KBrO3)
सीएसई ने कई ब्रांडेड कंपनियों के बेकरी उत्पाद (ब्रेड से जुड़े) में जो खतरनाक केमिकल मिले हैं उनमें से एक है पोटैशियम ब्रोमाइड। दरअसल इस केमिकल का इस्तेमाल आटे को ठीक से गूंथने और उसे बेकिंग के समय ज्यादा फूलने के लिए मिलाया जाता है। एक्सपर्ट बताते हैं कि इसका इस्तेमाल अगर सही आंच पर और सही समय तक किया जाए तो यह खाद्य उत्पाद से पूरा खत्म हो जाता है। यानी ये हवा के साथ गर्मी ज्यादा होने पर क्रिया करता है। लेकिन ये चेतावनी भी है कि अगर उत्पाद जल्दी जल्दी में कम पकाया गया तो उसमें इस केमिकल के छूट जाने का खतरा रहता है। अगर ये केमिकल इन्हीं खाद्य पदार्थों के साथ शरीर में चला जाए तो कैंसर जैसे खतरनाक बीमारी का जनित भी साबित हो सकता है।

इंटरनेशनल एजेंसी फॉर रिसर्च ऑन कैंसर (IARC) ने इस केमिकल के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगाया हुआ है। इसके अलावा यूरोपीय यूनियन के देशों, अर्जेंटीना, ब्राजील, कनाडा, नाइजीरिया, दक्षिण कोरिया, पेरू समेत कई अन्य देशों में इस केमिकल के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा हुआ है। श्रीलंका ने इस पर 2001 में प्रतिबंध लगा दिया था जबकि चीन ने भी 2005 में प्रतिबंध लगाया हुआ है।

अमेरिका में इस पर प्रतिबंध नहीं है लेकिन बेकरी कंपनियों को उनकी इच्छा पर इसके इस्तेमाल को रोकने को कहा गया है। जबकि कैलिफोर्निया में अगर इस केमिकल का इस्तेमाल हुआ है तो उत्पाद की पैकिंग पर लिखना अनिवार्य होता है। जापानी कंपनियों ने भी इसका इस्तेमाल स्वेच्छा से रोक दिया है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें