भाजपा का नारा है ‘‘दिखा दो सपना-सबका माल अपना” : सिंधिया

अम्बाह । कांग्रेस के नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘56 इंच सीने’ वाले बयान पर तंज करते हुए कहा कि देश के अन्नदाता किसान का सीना 56 इंच का है, क्योंकि वह भाजपा के राज में विषम परिस्थितियों में खेती कर रहा है।

अम्बाह में कल आयोजित किसान जन आक्रोश रैली में सिंधिया ने कहा, ‘‘भाजपा के शासन में मध्यप्रदेश में किसान जिन विषम परिस्थितियों में खेती कर रहा है। उससे यह साबित होता है कि अन्नदाता किसान की छाती 56 इंच की है न की मोदी जी की।’’

उन्होंने कहा कि प्रदेश का किसान विगत तीन वर्षों से सूखा, ओला-पाला, अतिवृष्टि की चपेट में है और प्रदेश सरकार विधानसभा के विशेषसत्र के बाद भी आज तक किसानों को मुआवजे का वितरण नहीं कर पाई है, इससे बड़ी लज्जा का विषय और क्या हो सकता है।

उन्होंने कहा कि आज देश और प्रदेश में किसान के पास न तो बिजली है, न पानी है, खाद बीज की समस्या भी है, ऐसे में जोे किसान खेती कर देश का पेट भर रहा है वह सम्मान का हकदार है। उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी सरकार ने अपने चुनावी वायदे के अनुरूप न्यूनतम समर्थन मूल्य में वृद्घि के लिए स्वामीनाथन कमेटी की रिपोर्ट को लागू नहीं किया। कांग्रेस सरकार में देश की कृषि विकास 4.5 प्रतिशत थी, वह मोदी सरकार में एक प्रतिशत पर आ गयी है।

कांग्रेस नेता ने आगे कहा कि आज पूरा देश जानना चाहता है कि अच्छे दिन कहाँ है। भाजपा के भ्रष्टाचार पर चुटकी लेते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा का नारा है ‘‘दिखा दो सपना-सबका माल अपना’’।

उन्होंने आगे कहा कि भाजपा सरकारों की विफलता के चलते देश में आज गरीब का जीना दुर्भर हो गया है क्योंकि इस कमर तोड़ महंगाई के चलते आज आम आदमी के लिए दो जून की रोटी जुटाना भी कठिन हो रहा है। ऐसे में प्रधानमंत्री आटा के बजाय डाटा की बात करें तो बड़ा अजीब लगता है।

प्रदेश की भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए सिंधिया ने कहा कि 13 साल के शासन काल में भाजपा ने मध्यप्रदेश के साथ अन्याय किया है। व्यापमं, सिंहस्थ की आड़ में होने वाले घोटाले प्रदेश में आम हंै। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि प्रदेश में युवा, किसान और आम जनता सब के सब भाजपा के कुशासन में पिस रहे हैं और भाजपा के नेता मालामाल हो रहे हैं।

बिजली को लेकर सिंधिया ने कहा कि उनके मंत्री रहने के दौरान ‘‘राजीव गाँधी विद्युतीकरण मिशन में किसानों को बिजली दिलाने की भरपूर योजनाएं दी, वहीं मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अटल जी के नाम को बदनाम कर रहे हैं। उनकी योजना तो अब ‘अटल कटौती योजना’ में बदल चुकी हैं। पूरे प्रदेश में किसान बिजली के लिए परेशान है, ट्रांसफर्मर है और लाइन भी है बस करंट नहीं है।’’

उन्होंने चम्बल क्षेत्र की जनता से अपील की कि वर्तमान सरकार को वर्ष 2018 के विधानसभा चुनाव में ऐसा करंट देना जिसे यह सरकार कभी भूल न पाए। इससे पहले अम्बाह जाने के दौरान मुरैना में कुछ कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने सिंधिया को बरेह गांव के पास काले झंडे दिखाकर वापस जाने की नारेबाजी की।

कांग्रेस कार्यकर्ताओं का एक गुट कांग्रेस के कार्यक्रम में उन्हें अहमियत न दिये जाने को लेकर नाराज था और उन्होंने कांग्रेस आलाकमान को इसकी शिकायत कर कार्यक्रम का विरोध करने का ऐलान किया था।

Get Live News Updates Download Free Android App, Like our Page on Facebook, Follow us on Twitter or Follow us on Google