भोपाल एनकाउंटर : न्यायिक जांच पर विवाद का साया

भोपाल एनकाउंटर : न्यायिक जांच पर विवाद का साया

Posted by

भोपाल । भोपाल केंद्रीय कारागार से 30-31 अक्तूबर की रात प्रतिबंधित संगठन सिमी के आठ सदस्यों के भागने और उनकी मुठभेड़ में मौत की जांच शुरू होने से पहले ही विवाद में घिर गई है। सिमी सदस्यों की ओर से केस लड़ने वाले वकील परवेज आलम ने आरोप लगाया कि न्यायिक जांच निष्पक्ष नहीं लग रही।

उन्होंने कहा कि यह हैरान करने वाला है कि मुठभेड़ में जो राज्य सरकार आरोपी है, उसी ने इसकी जांच के लिए अपना जांचकर्ता चुन लिया है। उन्होंने कहा कि नृशंस हत्या के मामले में मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय से न्यायिक जांच के आदेश दिलाने की बजाय राज्य सरकार ने खुद ही जांचकर्ता चुन लिया। सरकार को इसकी जांच के लिए वर्तमान या सेवानिवृत्त जज को चुनना चाहिए। हम इसके लिए मध्य प्रदेश हाई कोर्ट में याचिका दाखिल करेंगे।

हालांकि प्रदेश सरकार ने दो दिन पहले कहा था कि मामले की जांच हाई कोर्ट के सेवानिवृत्त जज एसके पांडे करेंगे। लेकिन रविवार को उनसे पूछा तो उन्होंने कहा कि मेरे पास इस संबंध में कोई जानकारी नहीं है। इससे पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी कहा था कि कैदियों के जेल से भागने की जांच एनआईए करेगी।

हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फ्री मोबाईल ऐप डाऊनलोड करे तथा हमे  फेसबुकटविटर और गूगल पर फॉलो करें