ब्लॉग

मकर संक्रांति पर विशेष : सूर्य उपासना का पर्व है मकर संक्रांति

मकर संक्रांति पर विशेष : सूर्य उपासना का पर्व है मकर संक्रांति

January 13, 2017 at 5:19 pm

ब्यूरो (सरफ़राज़ ख़ान)। भारत में समय-समय पर अनेक त्यौहार मनाए जाते हैं. इसलिए भारत को त्योहारों का देश कहना गलत न होगा. कई त्योहारों का संबंध ऋतुओं से भी है. ऐसा ही एक पर्व है . मकर संक्रान्ति. मकर संक्रान्ति पूरे भारत में अलग-अलग रूपों में मनाया जाता है. पौष मास में जब सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है […]

Read more ›
स्कूल परिसर में खेलते बच्चे

मूलभूत सुविधाओं से वंचित बिहार के कुशैल गाँव का एक विधालय

January 11, 2017 at 2:51 am

ब्यूरो (इफ्फत परवीन की रिपोर्ट)। सरकारी विधालय का नाम सुनते ही आंखो के सामने एक ऐसे परिसर की छवी बनती है जहां बच्चें तो अधिक संख्या में मिल जाते हैं लेकिन उनके विकास के लिए सभी मूलभूत सुविधाएं दूर दूर तक दिखाई नही देती। बिहार के कुशैल गांव का “उत्क्रमित मध्य विधालय” ऐसे ही विधालयों की श्रेणी में आता है। […]

Read more ›
सतनामी समाज के लोग आपस में चर्चा करते हुए

वर्षो से विकास की राह देख रहा “सतनामी समाज”

January 11, 2017 at 2:35 am

ब्यूरो (राजेश बंजारे की रिपोर्ट)। छत्तीसगढ़ के जिला जांजगीर चाम्पा विकास खंड डभरा का गांव है सकराली। यह ब्लॉक से 6 किलोमीटर की दूरी पर साराडीह पंचायत के महानदी जो छत्तीसगढ़ की जीवन रेखा मानी जाती है के बैराज(बांध) के किनारे पर स्थित है। कारणवश शांत वातावरण, चारो ओर हरे भरे खेतों के बीच बसे इस गांव की खूबसूरती देखते […]

Read more ›
सकारात्मक सोच के साथ पहल की भी आवश्यकता है

सकारात्मक सोच के साथ पहल की भी आवश्यकता है

January 7, 2017 at 1:53 am

ब्यूरो (मौ० अनिस उर रहमान खान)। किसी भी देश के गैर सरकारी संगठन देश के विकास में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। दिल्ली स्थित चरखा डेवलपमेंट कम्यूनिकेशन नेटवर्क एक ऐसा ही गैर सरकारी संगठन है जो पिछले कई वर्षो से दूरदराज के ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को जागरूक करने के लिए प्रयासरत है। ताकि हर नागरिक अपने स्वास्थ्य के साथ- […]

Read more ›
लाईन में लगी हुई महिलाएं

नोटबंदी: 50 दिन बाद भी नही है राहत, क्या कहती हैं घरेलू महिलाएं

January 4, 2017 at 10:43 pm

पटना (निकहत प्रवीन)। 8 नंवबर 2016 को एक ऐसा फैसला सामने आया जिसने लोगो की रातों की नीदें उड़ा दी। फैसला था नोटबंदी का जिसके अनुसार 500 और 1000 के नोट की वैधता भारतीय बाजार में समाप्त कर दी गई। इस फैसले को 50 दिन से ज्यादा का समय गुजर चुका है उम्मीद थी कि 50 दिन के बाद सबकुछ […]

Read more ›
जम्मू-कश्मीर के एक गाँव के लोगों की गुहार : नये साल में सड़क तो दे दो

जम्मू-कश्मीर के एक गाँव के लोगों की गुहार : नये साल में सड़क तो दे दो

January 3, 2017 at 12:28 am

ब्यूरो (मौहम्म्द रेयाज मल्लिक – मंडी,पुंछ)। जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव से पहले ये नारे लगाए जा रहे थे कि अगर केंद्र और राज्य में एक ही पार्टी की सरकार होगी तो विकास कार्य अधिक होगें। मगर चुनाव के बाद जनता को निराशा के सिवा कुछ नही मिला। विकास के लिए हम पहाड़ी निवासियों को सड़कों की जरूरत सबसे अधिक है। […]

Read more ›
कहाँ है नजीब ? ढाई महीने बाद भी जबाव वही

कहाँ है नजीब ? ढाई महीने बाद भी जबाव वही

December 30, 2016 at 12:43 am

ब्यूरो (राजाज़ैद) । नजीब की गुमशुदगी को ढाई महीना हो गया, आज भी सवाल वही है “नजीब कहाँ हैं” तो जबाव भी वही है “हम खोज रहे हैं”। यहाँ एक बड़ा सवाल यह है कि “पुलिस ने क्या किया जो ढाई महीने में नजीब को नहीं तलाश कर सकी”। नजीब की मां से मिलकर बड़ी बड़ी बातें करने वाले दिल्ली […]

Read more ›
न स्वच्छता है न शौचालय

न स्वच्छता है न शौचालय

December 29, 2016 at 11:21 pm

ब्यूरो । (फरजाना खातुन- बछारपुर, बिहार)। भारत के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने जून 2014 में संसद को संबोधित करते हुए कहा था “देश में जल्द ही स्वच्छ भारत मिशन शुरु किया जाएगा, जो देश भर में स्वच्छता, वेस्ट मैंनेजमेंट, को सुनिश्चित करने के लिए होगा। यह मिशन महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर 2019 में हमारी ओर से श्रद्धांजली होगी”। […]

Read more ›
लेखक अभिभावक से बात करता हुआ

पर्याप्त पोषण से वंचित हैं बच्चे!

December 29, 2016 at 10:56 pm

ब्यूरो {अब्दुर रहमान,पुपरी (बिहार)} । “चावल में कभी कभी कीड़ा रहता है,और दाल एकदम पतला होता है। सब्जी खाने में स्वाद नही लगता, फिर भी खाना पड़ता है”। ये वाक्य है 12 साल की छात्रा कविता का जो बिहार के जिला सितामढ़ी के पुपरी प्रखंड मे स्थित कुशैल गांव के “उत्क्रमित मध्य विधालय” में पढ़ती है। इस संबध में मेरी […]

Read more ›
नोटबंदी: घर का चिराग़, घर को आग

नोटबंदी: घर का चिराग़, घर को आग

December 29, 2016 at 10:44 pm

ब्यूरो(राकेश सिंह) | कहा जाता है कि सूचना और ज्ञान में अन्तर होता है। अकसर सूचनाप्रद व्यक्ति स्वंय को ज्ञानी समझने की भूल कर लेता है, उसी प्रकार नोटबंदी में जिन लोगों में देसी काले धन को सफ़ेद करने में मदद की है, असल में उन्होंने देश का नुक़सान किया है। नोटबंदी की मियाद में जब कुछ घंटे ही बच […]

Read more ›